Wednesday, January 2, 2013

परमेश्‍वर का राज्‍य



पुराने नियम में परमेश्‍वर के राज्‍य से सम्‍बन्धित कई भविष्‍यद्वाणियां है जिनका सम्‍बन्‍ध प्रभु यीशु मसीह के आगमन से है। दानिय्येल के पुस्‍तक हम देखते है कि नबुकदनेस्‍सर राजा ने एक बार एक बेचैन कर देने वाला स्‍वप्‍न देखा जिसका अर्थ दानिय्येल नबी ने बताया। इसका विवरण हम दानिय्येल 2 में पढ़ते है जिसमें दानिय्येल यह समझाता है कि संसार में चार महान साम्राज्‍य आएंगे जिसके पश्‍चात परमेश्‍वर का राज्‍य पृथ्‍वी पर आ जाएगा। ऐतिहासिक तौर पर हम जानते है कि ये चार राज्‍य बाबुल का साम्राज्‍य, मीद-फारसी साम्राज्‍य, युनानी साम्राज्‍य, और रोमी साम्राज्‍य थे।

रोमी साम्राज्‍य के समय में ही यूहन्‍ना बपतिस्‍मादाता और प्रभु यीशु मसीह ने प्रचार किया की स्‍वर्ग या परमेश्‍वर का राज्‍य निकट है। यीशु मसीह ने अपने चेलों से प्रार्थना में यह मांगना सिखाया कि परमेश्‍वर का राज्‍य आवे और उसकी इच्‍छा धरती पर पूरी हो। यीशु मसीह ने तो यह घोषणा किया की यदी वह परमेश्‍वर की उंगली से दुष्‍टात्‍माओं को निकालता था तो परमेश्‍वर का राज्‍य धरती पर आ चुका।

इसमें कोई संदेह नही की धरती पर परमेश्‍वर का राज्‍य का आना मसीहा का राज्‍य के विषय में ही कहना है। लेकिन प्रभु यीशु मसीह के पहले आगमन में तो राज्‍य का नींव कायम किया गया। इसीलिए आज भी राज्‍य का प्रचार किया जाता है। और जब परमेश्‍वर के राज्‍य का प्रचार सारे संसार में कर दिया जाएगा तब संसार का अंत हो जाएगा और परमेश्‍वर का राज्‍य धरती पर उतर आएगा।  

No comments: